Uttar Pradesh

New Year 2021: उम्मीद, उमंग और उल्लास संग नूतन वर्ष-2021 का अभिनंदन, सर्द रात में चला पार्टियों का दौर

अस्सी स्थित डुमरांव बाग अंगीठी रेस्टोरेंट में नया साल पर मस्ती करते लोग
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

नव वर्ष-2021 का स्वागत काशीवासियों ने पूरी मस्ती से किया।  गुरुवार को घड़ी की दोनों सुइयां जैसे ही 12 पर मिली वैसे ही शहर में धूम-धड़ाका शुरू हो गया। आसमान में आतिशबाजी से सतरंगी छटाएं रह-रहकर छाती रहीं। मंदिरों में जहां आरती, पूजा- पाठ और भजन-कीर्तन हुआ। वहीं, शहर के कई होटलों व लॉन में गायन, वादन और नृत्य की त्रिवेणी बही। कॉकटेल और मॉकटेल के दौर के बीच लजीज व्यंजनों का स्वाद लिया गया।

घरों में कटा केक रहा जश्न का माहौल
होटलों संग घरों में भी नए साल का स्वागत धूमधाम से हुआ। कई युवाओं ने घर की छत पर ही म्यूजिक सिस्टम लगाकर महफिल सजाई, तो कहीं सर्द रात में कैंप फायर और तंदूरी पार्टी का लुफ्त उठाया गया। बच्चा पार्टी ने केक काटकर माता पिता संग सबको हैप्पी न्यू ईयर कहा।

घरों में बना इंडियन व चाइनीज व्यंजन
कोरोना काल में जो परिवार होटल में जाकर नए साल का जश्न नहीं मना पाए ,  उन्होंने घरों में ही इंडियन, चाइनीज और इटालियन का स्वाद चखा।

नन्हे-मुन्ने संग बांटी नए साल की खुशियां
नए साल का स्वागत जहां लोगों ने परिवार के साथ  किया।  वहीं भारतीय मानवाधिकार की जिला महिला प्रमुख सारिका दुबे व डेस्टिनी बैंड के कलाकारों ने  लंका स्थित शांति निकेतन अनाथ आश्रम में रहने वाले बच्चों संग नए साल की खुशियां बांटी। कार्यक्रम में बैंड के कलाकारों ने बच्चों के मनपसंद गीतों पर उनका मनोरंजन किया और उपहार बांटे। इस अवसर पर शुभ्रांत दुबे, अभिषेक सिंह, यश जायसवाल, जितेंद्र यादव, आशा, पूजा कुमारी, पूर्णिमा सिंह, अभिमन्यु सिंह, आशीष सिंह, सत्यम, गौरव श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

 

12 बजते ही बजे उठें चर्च के घंटे
नव वर्ष की अगवानी व पुराने साल को अलविदा कहने के लिए गुरुवार की रात्रि महागिरजा समेत तमाम चर्चों में प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया। शहर के गिरजाघर चर्च सजधज कर पहले से ही तैयार थे। मध्यरात्रि की शुरुआत होते ही केक काटे गए और कैरोल सिंगिंग की धुन फिजा में गूंज उठी।

नव वर्ष पर हुआ था यीशु का नामकरण
रामकटोरा चर्च के पादरी आदित्य कुमार ने बताया कि क्रिसमस के दिन जग के राजा ईसा मसीह धरती पर जन्मे थे और नया साल का पहला दिन प्रभु यीशु मसीह के नामकरण का दिन है। प्रभु यीशु बाल रूप में धरती पर आए थे, इसलिए भी नववर्ष का बड़ा महत्व है।

शाम से शुरू हो गई थी आराधना
नववर्ष की पूर्व संध्या से ही चर्च में नववर्ष की आराधना शुरू हो चुकी थी। रात 12 बजते ही बुराइयों का प्रतीक पुतला जलाया गया।  सेंट मेरिज महागिरजाघर के बिशप यूजीन जोसेफ ने आराधना कराई, तो सीएनआई चर्च रामकटोरा में पादरी आदित्य कुमार ने बाइबिल का पाठ किया। 

सेंट पॉल चर्च सिगरा में पादरी सेम जोशुआ सिंह व  चर्च ऑफ बनारस में पास्टर बेन जॉन, लाल चर्च में पादरी संजय दान, सेंट बेटलफुल गोस्पेल चर्च में पास्टर एंड्रयू थॉमस, विजेता प्रेयर मिनिस्ट्रीज में पास्टर अजय कुमार ने नववर्ष के स्वागत में आराधना की।  सेंट जॉन्स मढौली में  फादर हेनरी,  यीशु माता चर्च शिवपुर में फादर रोजलीन राजा ने आराधना कराई। रात 12 बजते ही चर्च के घंटे बज उठे और मसीही समाज के घरों व कॉलोनी में एक साथ हैप्पी न्यू ईयर गूंजा।

सार

बीते बरस की तमाम खट्टी-मीठी यादों को ह्रदय में पिरोकर काशीवासियों ने उम्मीदों  की उमंग में उल्लास के साथ नववर्ष का अभिनंदन किया।  शाम से शुरू हुआ जश्न हर पल गुजरने के साथ जुनून में बदलता गया।  घड़ी की सुईयों के साथ नूतनता के आलिंगन की आतुरता अधीरता में बदलती चली गई।  भविष्य के सपनों के साथ स्वागत के अलग-अलग तरीके जश्न में रंग भरते रहे।  हर कोई हर पल को यादगार बनाने में जुटा रहा।  रात बारह बजे नए साल ने दस्तक दी, तो आसमान में आतिशबाजी के रंग भर गए।  रंगोली, पुष्प, संगीत, नृत्य और नए अरमानों के साथ काशी नए साल में प्रवेश कर गई।

विस्तार

नव वर्ष-2021 का स्वागत काशीवासियों ने पूरी मस्ती से किया।  गुरुवार को घड़ी की दोनों सुइयां जैसे ही 12 पर मिली वैसे ही शहर में धूम-धड़ाका शुरू हो गया। आसमान में आतिशबाजी से सतरंगी छटाएं रह-रहकर छाती रहीं। मंदिरों में जहां आरती, पूजा- पाठ और भजन-कीर्तन हुआ। वहीं, शहर के कई होटलों व लॉन में गायन, वादन और नृत्य की त्रिवेणी बही। कॉकटेल और मॉकटेल के दौर के बीच लजीज व्यंजनों का स्वाद लिया गया।

घरों में कटा केक रहा जश्न का माहौल

होटलों संग घरों में भी नए साल का स्वागत धूमधाम से हुआ। कई युवाओं ने घर की छत पर ही म्यूजिक सिस्टम लगाकर महफिल सजाई, तो कहीं सर्द रात में कैंप फायर और तंदूरी पार्टी का लुफ्त उठाया गया। बच्चा पार्टी ने केक काटकर माता पिता संग सबको हैप्पी न्यू ईयर कहा।

घरों में बना इंडियन व चाइनीज व्यंजन

कोरोना काल में जो परिवार होटल में जाकर नए साल का जश्न नहीं मना पाए ,  उन्होंने घरों में ही इंडियन, चाइनीज और इटालियन का स्वाद चखा।

नन्हे-मुन्ने संग बांटी नए साल की खुशियां

नए साल का स्वागत जहां लोगों ने परिवार के साथ  किया।  वहीं भारतीय मानवाधिकार की जिला महिला प्रमुख सारिका दुबे व डेस्टिनी बैंड के कलाकारों ने  लंका स्थित शांति निकेतन अनाथ आश्रम में रहने वाले बच्चों संग नए साल की खुशियां बांटी। कार्यक्रम में बैंड के कलाकारों ने बच्चों के मनपसंद गीतों पर उनका मनोरंजन किया और उपहार बांटे। इस अवसर पर शुभ्रांत दुबे, अभिषेक सिंह, यश जायसवाल, जितेंद्र यादव, आशा, पूजा कुमारी, पूर्णिमा सिंह, अभिमन्यु सिंह, आशीष सिंह, सत्यम, गौरव श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

 


Source link

arvind007

News Media24 is a Professional News Platform. Here we will provide you National, International, Entertainment News, Gadgets updates, etc. 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: