Breaking News

किसान और चीन को लेकर गरजे राहुल, बोले- ‘मुझे गोली मार सकते हैं पर छू नहीं सकते’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को किसानों के मुद्दों को लेकर एक प्रेस वार्ता की। इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह तीन नए काले कृषि कानूनों के जरिए देश के कृषि क्षेत्र को बर्बाद कर देना चाहती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा देश के किसान के साथ खड़ी रही है और खड़ी रहेगी। उन्होंने अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती इलाके में चीन द्वारा गांव बसाने के दावे वाली खबरों को लेकर सरकार पर निशाना साधा और एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार चीन के मुद्दे को बहुत हल्के में ले रही है और अगर उसने अभी सही कदम नहीं लिए तो जो नुकसान होगा उसे रोक नहीं पाएंगे।

उन्होंने कहा कि सरकार समझती है कि किसानों को थकाया जा सकता है, उन्हें बेवकूफ बनाया जा सकता है। लेकिन, प्रधानमंत्री से ज्यादा समझ देश के किसानों को है। हल एक ही आएगा कि तीनों कानून वापस लेने होंगे। राहुल गांधी कौन है, क्या करता है, ये देश का हर किसान जानता है। भड्डा पारसौल में नड्डा जी तो नहीं खड़े थे, राहुल गांधी खड़ा था। किसानों के हर हित में कांग्रेस शामिल रही। नड्डा जी कहां थे? मुझे तो नहीं दिखे। मेरा चरित्र है। मैं नरेंद्र मोदी या किसी से नहीं डरता।’

‘मेरा चरित्र है, देशभक्त हूं और किसी से डरता नहीं हूं’
उन्होंने कहा, ‘मेरा चरित्र है, मैं डरता नहीं हूं। मैं साफ-सुथरा आदमा हूं। मुझे ये लोग छू नहीं सकते। गोली मार सकते हैं पर छू नहीं सकते। मैं देशभक्त हूं। देश की रक्षा करता हूं और करता रहूंगा। जिस चीज के लिए देश 70-80 साल पहले लड़ा था आज फिर वही हो रहा है। मेरी बात मत मानो जब गुलाम बन जाओगे तब मानना।’ उन्होंने कहा कि अब इस देश को चार-पांच लोग चला रहे हैं। ये लोग देश के प्रधानमंत्री के करीबी हैं। सरकार कृषि क्षेत्र को भी इन्हीं के हाथों में देना चाहती है।

राहुल गांधी ने कहा, ‘चीन हिंदुस्तान की कमजोरी देख रहा है, समझ रहा है। उसकी साफ कूटनीतिक रणनीति है और वह दुनिया को अपने हिसाब से आकार देना चाहता है। भारत के पास कोई रणनीति नहीं है, कोई विजन नहीं है। चीन ने भारत को दो बार टेस्ट किया है। एक बार दोकलाम में और एक बार लद्दाख में। भारत ने अगर चीन को साफ संदेश नहीं दिया, स्पष्ट रणनीति नहीं बनाई तो चीन चुप नहीं बैठेगा और इसका फायदा उठाएगा और जब फायदा उठाएगा तब नुकसान हो जाएगा, और तब आप इसे रोक नहीं पाओगे।’

मोदी पर निशाना, ‘आपकी बातों से नहीं मानेगा चीन’
उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लेते हुए कहा, ‘वो (चीन) आपकी जमीन के अंदर आ गए हैं। आपको लगता है कि इसको आप तू-तू मैं-मैं करके परे कर सकते हो। आपको लगता है कि इसे इवेंट मैनेजमेंट से इस घटना को मैनेज कर सकते हो। चीन डॉमिनेट करना चाहता है और वैसे ही काम कर रहा है। आपका काम हिंदुस्तान की रक्षा करना है जो आप नहीं कर रहे हो। चीन कोई घटना नहीं है, यह एक प्रक्रिया है। मैं स्टडी करता हूं। सोच समझ कर बोलता हूं। मैं आपको बता रहा हूं बहुत खतरनाक स्थिति बन रही है।’

‘मैं विपक्ष का नेता हूं, जहां भी गलत देखूंगा वो बोलूंगा’
राहुल गांधी ने कहा कि मैंने फरवरी में भी चेतावनी दी थी कि अभी समझ जाइए, कोरोना आ रहा है, क्षति होगी, लोग मरेंगे। तब उन्होंने कहा कि राहुल गांधी बकवास कर रहा है। लेकिन क्या हुआ आप देखिए। राहुल गांधी ने अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती इलाके में चीन द्वारा गांव बसाने के दावे वाली खबरों को लेकर सरकार पर निशाना साधा।  उन्होंने कहा, ‘मैं विपक्ष का नेता हूं और मैं जहां भी गलत देखूंगा वो बोलूंगा।’ इससे पहले, उन्होंने एक ट्वीट किया था, ‘उनका वादा याद करिए- मैं देश झुकने नहीं दूंगा।

क्या है चीन के साथ मामला जिस पर राहुल ने चेताया
दरअसल, मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक, चीन ने अरुणाचल प्रदेश में एक नया गांव बसाया है, जहां लगभग 100 से अधिक घर बने दिख रहे हैं। 1 नवंबर, 2020 को उपग्रह से ली गई इन तस्वीरों से पुष्टि हुई है कि यह गांव भारत की सीमा के 4.5 किलोमीटर अंदर बना हुआ है। इन खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए भारत ने सोमवार को कहा था कि वह देश की सुरक्षा पर असर डालने वाले समस्त घटनाक्रमों पर लगातार नजर रखता है और अपनी संप्रभुता एवं क्षेत्रीय अखंडता की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाता है।

‘कृषि क्षेत्र को बर्बाद करने के लिए लाए गए कानून’
गांधी ने कहा कि देश का सबसे बड़ा व्यवसाय खेती है। तीन ऐसे नए कानून बनाए गए जो देश के कृषि क्षेत्र को बर्बाद कर दें। मंडियों को समाप्त कर के, आवश्यक वस्तु अधिनियम खत्म करके और यह सुनिश्चित करके कि किसान अपनी समस्याएं लेकर अदालत के पास भी न जा सकें। यह एक बहुत बड़ी दुर्घटना है। इसका परिणाम होगा कि 3-4 लोग होंगे जो देश चलाएंगे, जो कृषि क्षेत्र को नियंत्रित करेंगे। किसानों को उनके काम का उचित मूल्य नहीं मिलेगा। महंगाई बढ़ेगी और मध्य वर्ग भी इससे बुरी तरह प्रभावित होगा।

‘कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसान देशभक्त’
उन्होंने कहा, ‘क्यों पंजाब और हरियाणा के किसान आंदोलन कर रहे हैं। इसलिए कर रहे हैं क्योंकि वह देशभक्त हैं। मैं उन्हें 100 फीसदी समर्थन देता हूं, हर भारतीय को उनका समर्थन करना चाहिए क्योंकि वह हमारे लिए लड़ रहे हैं। पिछले छह-सात साल देखें तो हर उद्योग में उन्हीं चार-पांच लोगों का एकाधिकार बढ़ रही है। आज तक देश के खेतों का फायदा किसानों-मजदूरों-मिडिल क्लास और गरीबों को जाता था। एक ढांचा था, जो इनकी रक्षा करता था। उनमें मंडियां थीं, आवश्यक वस्तु अधिनियम था, लीगल सिस्टम था।’

‘आजादी से पहले की हालत में ले जाएंगे नए कानून’
पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की ओर से लाए गए तीनों नए कृषि कानून देश में कृषि की स्थिति को वैसा ही कर देंगे जैसी वह स्वतंत्रता से पहले थी। उन्होंने कहा, ‘ये तीन कानून कृषि में एक बार फिर आजादी से पहले की हालत करने जा रहे हैं। चार-पांच लोगों के हाथ में खेती का ढांचा मोदी जी दे रहे हैं। इसीलिए किसान बाहर खड़े हैं। किसान अपनी रक्षा नहीं कर रहे हैं वो देश की जनता के भोजन की रक्षा कर रहे हैं। सरकार चाहती है कि वह इस घटना से नजरें फेर ले, वह लोगों को भ्रम में रखना चाहती है।’

Source link

arvind007

News Media24 is a Professional News Platform. Here we will provide you National, International, Entertainment News, Gadgets updates, etc. 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: