Sports

कभी IPL ही नहीं खेले सबसे महंगे बिके पांच में से दो खिलाड़ी, बाकी तीन के रिकॉर्ड में भी दम नहीं

आईपीएल 2021 के पांच सबसे महंगे खिलाड़ी
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

चेन्नई के एक होटल में गुरुवार को खिलाड़ियों की मंडी सजी। मकसद था आईपीएल के 14वें सीजन की नीलामी, जिसके बाद तमाम फ्रैंचाइजी अपना स्क्वॉड पूरा कर पाती। कुल 61 खिलाड़ियों की खरीदी होनी थी, जिसमें 57 खिलाड़ी ही बिक पाए, जिन पर कुल 145 करोड़ 30 लाख रुपये खर्च किए गए। सभी फ्रैंचाइजी ने अपने आठ विदेशी खिलाड़ियों का कोटा पूरा किया। सिर्फ राजस्थान रॉयल्स (24) और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (22) के खेमे में 25 खिलाड़ी पूरे नहीं हो पाए। दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर क्रिस मॉरिस नीलामी इतिहास में सबसे ज्यादा महंगे बिकने वाले खिलाड़ी बने। काइल जैमीसन और झाय रिचर्डसन पर भी पैसों की बारिश हुई। इस खबर में आपको आगे बताते हैं कि सबसे महंगे बिके पांच खिलाड़ियों का आईपीएल में रिकॉर्ड कैसा रहा है?

RCB ने इस साल क्रिस मॉरिस को रिलीज कर दिया था, लेकिन नीलामी में 75 लाख रूपये के बेस प्राइस वाले मॉरिस के लिए चार टीम बोली लगी रहीं थीं। अंत में टक्कर राजस्थान रॉयल्स और पंजाब किंग्स के बीच खत्म हुई। राजस्थान रॉयल्स ने 16.25 करोड़ रुपये में उन्हें खरीदा। जिससे यह दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर नीलामी के इतिहास में सबसे ज्यादा कीमत पर बिकने वाले खिलाड़ी बन गए। पहले युवराज सिंह के नाम यह रिकॉर्ड था, जिन्हें दिल्ली कैपिटल्स ने 2015 में 16 करोड़ रूपये में खरीदा था। हालांकि आईपीएल के सबसे महंगे खिलाड़ी विराट कोहली ही रहेंगे जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 17 करोड़ रूपये में रिटेन (टीम में बरकरार रखना) किया था। मॉरिस ने 70 आईपीएल मैचों में 23.95 के औसत से 551 रन बनाए हैं और 80 विकेट चटकाए हैं। बीते सीजन में वह पूरी तरह फिट नहीं थे। यूएई में हुई उस प्रतियोगिता के नौ मैच में वह सिर्फ 34 रन ही बना पाए, लेकिन 11 विकेट भी चटकाए।

जैमीसन इस बार की नीलामी में दूसरे सबसे महंगे खिलाड़ी रहे। 6 फीट 8 इंच लंबे इस कीवी पेसर के ऊपर पहले ही आईपीएल में पैसों की बारिश हुई है। 26 वर्षीय क्रिकेटर ने अपनी बेस प्राइस 75 लाख रखी थी। गेंद के साथ-साथ बल्ला चलाने की भी काबिलियत रखने वाले जैमीसन को 15 करोड़ में रॉयल चैंलेंजर्स बैंगलोर ने अपने साथ जोड़ा। जैमीसन का अंतरराष्ट्रीय टी-20 करियर कुछ खास नहीं रहा और उन्होंने न्यूजीलैंड की तरफ से अब तक चार मुकाबले ही खेले हैं, जिसमें उन्हें सिर्फ तीन विकेट ही मिले। 38 टी-20 के करियर में 20 की औसत से हालांकि उन्होंने 54 विकेट चटकाए हैं। साथ ही 27 की औसत से 190 रन भी बनाए हैं। बताते चलें कि लंबे कद के जैमीसन तेज गेंदबाजी के साथ बल्लेबाजी में लंबे-लंबे छक्के भी लगा लेते हैं।

मॉरिस से पहले एक और ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल 14.25 करोड़ रुपये की राशि हासिल करने में सफल रहे, जिनकी बोली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने जीती। हालांकि मैक्सवेल का इस टी-20 लीग में प्रदर्शन इतना अच्छा नहीं है। इससे पहले कोलकाता नाइटराइडर्स ने मैक्सवेल पर बोली लगाने की शुरूआत की, लेकिन अंत में चेन्नई सुपर किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के बीच उन्हें लेने की होड़ लग गई। पंजाब किंग्स ने पिछली नीलामी में मैक्सवेल को 10.75 करोड़ रूपये में खरीदा था, लेकिन 2020 चरण के बाद इस 32 साल के खिलाड़ी को रिलीज कर दिया था, जिन्होंने 13 मैचों में 15.42 के औसत से केवल 108 रन बनाए थे। मैक्सवेल ने 82 आईपीएल मैचों में 22.13 के औसत से 1505 रन बनाए हैं।

पंजाब किंग्स के पास नीलामी से पहले आठों टीमों में सबसे ज्यादा राशि थी, उसने गेंदबाजी विभाग की कमी को भरने के लिए ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज झाय रिचर्डसन को 14 करोड़ रूपये में खरीदा। 24 साल के इस खिलाड़ी ने ऑस्ट्रेलिया के लिए दो टेस्ट, 13 वन-डे और नौ टी-20 अंतरराष्ट्रीय मेच खेले हैं। वह हाल में बिग बैश लीग में सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले गेंदबाज भी रहे। इस 24 वर्षीय गेंदबाज ने 2017 में अंतररष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया। क्रिकेट.कॉम.एयू के अनुसार रिचर्डसन को इतनी मोटी रकम मिलने का विश्वास ही नहीं हो रहा था। किंग्स पंजाब द्वारा खरीदे जाने के बाद कई तरह की भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा था और वह मानसिक रूप से थका हुआ महसूस कर रहे थे।

अनकैप्ड (अंतरराष्ट्रीय स्तर का मैच नहीं खेला हो) स्पिन गेंदबाजी ऑलराउंडर गौतम को चेन्नई सुपर किंग्स ने 9.25 करोड़ रुपये की रिकॉर्ड राशि में खरीदा। 32 साल का यह क्रिकेटर अभी इंग्लैंड के खिलाफ चल रही टेस्ट श्रृंखला के लिए बतौर नेट गेंदबाज भारतीय टीम के साथ है। इतनी बड़ी राशि से गौतम आईपीएल इतिहास में सबसे मंहगे बिकने वाले ‘अनकैप्ड’ खिलाड़ी बन गए, उनका आधार मूल्य भी 20 लाख रुपये था। कर्नाटक के इस ऑलराउंडर का आईपीएल में खास रिकॉर्ड नहीं है, उन्होंने 2018 के बाद तीन सत्र में 24 मैच खेले और 186 रन बनाने के साथ 13 विकेट लिए। वह 2018 और 2019 में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेले, जबकि 2020 में किंग्स इलेवन पंजाब (अब पंजाब किंग्स) का हिस्सा थे, जिसके लिए उन्हें केवल दो मैच खेलने का मौका मिला था।

चेन्नई के एक होटल में गुरुवार को खिलाड़ियों की मंडी सजी। मकसद था आईपीएल के 14वें सीजन की नीलामी, जिसके बाद तमाम फ्रैंचाइजी अपना स्क्वॉड पूरा कर पाती। कुल 61 खिलाड़ियों की खरीदी होनी थी, जिसमें 57 खिलाड़ी ही बिक पाए, जिन पर कुल 145 करोड़ 30 लाख रुपये खर्च किए गए। सभी फ्रैंचाइजी ने अपने आठ विदेशी खिलाड़ियों का कोटा पूरा किया। सिर्फ राजस्थान रॉयल्स (24) और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (22) के खेमे में 25 खिलाड़ी पूरे नहीं हो पाए। दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर क्रिस मॉरिस नीलामी इतिहास में सबसे ज्यादा महंगे बिकने वाले खिलाड़ी बने। काइल जैमीसन और झाय रिचर्डसन पर भी पैसों की बारिश हुई। इस खबर में आपको आगे बताते हैं कि सबसे महंगे बिके पांच खिलाड़ियों का आईपीएल में रिकॉर्ड कैसा रहा है?


आगे पढ़ें

बीते सीजन चोट से उबर रहे थे क्रिस मॉरिस

Source link

arvind007

News Media24 is a Professional News Platform. Here we will provide you National, International, Entertainment News, Gadgets updates, etc. 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: